गूगल सर्च कंसोल से ब्लॉग का एसईओ करें

गूगल सर्च कंसोल (Google Search Console) को एक SEO Tool है। जिसका प्रयोग हर एक ब्लॉगर को करना चाहिए ताकि गूगल सर्च में होने वाले उतार चढ़ाव को समझकर ब्लॉग की कमियों को दूर किया जा सके। यानि आप अपने ब्लॉग का एसईओ (Blog SEO) कर सकें।

गूगल सर्च में आपका ब्लॉग किन दिक्कतों से जूझ रहा है इसकी सही सही जानकारी केवल गूगल सर्च कंसोल पर ही मिल सकती है। इसलिए इस एसईओ टूल में साइट की हर गतिविधि को समय समय पर देखते रहें और भेजी गई हर संबंधित ईमेल को जरूर पढ़ते रहें। जिससे ब्लॉग का एसईओ करने में आसानी होती रहे।

ब्लॉग का एसईओ गूगल सर्च कंसोल Blog SEO Google Search Console in Hindi

अगर आप Google Search Console से Blog SEO कर लेंगे तो गूगल बॉट्स आपके ब्लॉग को सर्च इंजन में सही रैंक बनाये रखेंगे। यानि आपके ब्लॉग पोस्ट Right keyword के लिए हमेशा best search engine rank प्राप्त करेगी।

अक्सर लोग एसईओ का फायदा रातो-रात पाना चाहते हैं लेकिन इस काम में वक्त लगता है। आपकी किसी पोस्ट का एसईओ करने के बाद उसकी सर्च इंजन रैंक हफ्तों और महीनों में घटती-बढ़ती है।

इस पोस्ट में हम बैकलिंक और दूसरे एसईओ करने के तरीके पर बात नहीं करने वाले हैं। बल्कि Free SEO Tool Google Search Console (Webmaster tool) से Blog SEO करना बताएंगे।

Google Search Console se Blog ka SEO Karein

गूगल सर्च कंसोल से ब्लॉग का एसईओ करना

अपना ब्लॉग का एसईओ (Blog SEO) करने यानि उसे सर्च इंजन फ्रेंडली बनाने के लिए निम्न काम करने होंगे:

1. ब्लॉग के दो संस्करण | Two versions of Blog

Blog site preferred version in Hindi

आपके ब्लॉग को www के साथ या बिना www के खोला जा सकता है। इसलिए आपके ब्लॉग के दो संस्करण (Two versions) होते हैं। अत: आपको गूगल को बताना पड़ेगा कि आप किस संस्करण को सर्च इंजन में शामिल करना चाहते हैं।

Link- https://www.google.com/webmasters/tools/settings

इसके लिए साइट के दोनों संस्करण सर्च कंसोल में जमा करें और उनमें से अपना पसंदीदा संस्करण चुनें।

वहीं पर आपको Crawl Rate का भी विकल्प मिलेगा उसे गूगल द्वारा चुने हुए विकल्प पर ही रहने दें। आपका ब्लॉग कितनी जल्दी जल्दी अपडेट होता है। ब्लॉग के साइटमैप की क्राल दर इस पर निर्भर करती है।

2. साइटमैप जमा करें | Submit Sitemap

Submit sitemap in Hindi

सर्च कंसोल पर ब्लॉग जोड़ने के बाद साइटमैप जमा करने का काम तुरंत कर लेना चाहिए। आप गूगल ब्लॉगर प्रयोग कर रहे हैं तो साइटमैप पहले से बना होता है। लेकिन सेल्फ होस्टेड वर्डप्रेस पर ब्लॉग बनाया है तो Yoast SEO plugin से आप साइटमैप बना सकते हैं।

Google bots साइटमैप को क्राल करके ब्लॉग पोस्ट और संबंधित जानकारी को आसानी से समझ लेते हैं। इसके अलावा आपको भी पता लग जाता है कि सर्च इंजन में कितने लिंक शामिल किए जा चुके हैं।

अगर आपने अभी तक ब्लॉग का साइटमैप जमा नहीं किया है तो अभी गूगल सर्च कंसोल में साइटमैप जमा करें

3. सर्च एनालिटिक्स | Search Analytics

सर्च इंजन रैंक बढ़ानी हो तो ब्लॉग पोस्ट Top ranking keywords पर बनानी चाहिए। जो आपको Adwords Keyword Planner Tool में मिल जाएंगे।

Search analytics in Hindi

सर्च एनालिटिक्स में आप उन Queries यानि Keywords को देख सकते हैं। जिन्हें गूगल में सर्च करके यूजर्स आपके ब्लॉग पर आ रहे हैं। उसके आगे आपको Clicks के नीचे संख्या दिखेगी जिसका अर्थ है कि उस कीवर्ड को सर्च करके कितने लोग आपके ब्लॉग पर पहुंचे।

आप इन कीवर्ड पर लिंक बनाकर अपनी किसी पोस्ट को गूगल सर्च में दूसरे पेज से पहले पेज पर ला सकते हैं। अगर ऐसा नहीं भी हुआ तो उस पोस्ट की सर्च इंजन रैंक को बचा सकते हैं।

मुझे लग रहा है कि आप अब से इसे जरूर प्रयोग करेंगे।

4. अंतरराष्ट्रीय टारगेटिंग | International Targetting

अगर आप ब्लॉग किसी विशेष देश के लिए लिख रहे हैं तो आप इंटरनेशनल टारगेटिंग का विकल्प प्रयोग करना मत भूलें।

International targeting in Hindi

उदाहरण के लिए आप अमेरिकन एजुकेशन पर ब्लॉग लिख रहे हैं तो इसके लिए आपको इंटरनेशनल टारगेटिंग में अमेरिका (United States) विकल्प का चयन करना चाहिए।

5. मोबाइल यूजबिलिटी | Mobile Usability

Mobile usability in Hindi

इस विकल्प में आपको उन पेजों की जानकारी मिलेगी जो मोबाइल पर ठीक काम नहीं कर रहे हैं।

6. ब्लॉक्ड रिसोर्सेज | Blocked Resources

Blocked resources in Hindi

यहाँ आपको उन रिसोर्सेज की जानकारी दी जाती है जो गूगल बॉट्स के लिए बंद होते हैं। अगर किन्ही रिसोर्सेज को गूगल बॉट नहीं पढ़ पाता है तो उन्हें ठीक से सर्च इंजन में शामिल नहीं किया जा सकता है।

7. क्राल एरर्स | Crawl Errors

अगर आपके ब्लॉग को क्राल करने में किसी तरह की त्रुटि हो तो उसे इस पेज पर दिखाया जाता है। जब ऐसी त्रुटि होती है, गूगल की तरफ से ईमेल द्वारा सूचित किया जाता है।

Crawl errors in Hindi

इसी पेज पर आपको URL errors भी देख सकते हैं और उन्हें Fix कर सकते हैं।

8. फेच एज गूगल | Fetch as Google

Fetch as Google in Hindi

अगर आपने अपनी किसी ब्लॉग पोस्ट में बदलाव किए हैं और गूगल उसे क्राल करने में देरी कर रहा है तो आप Fetch as Google विकल्प को प्रयोग कर सकते हैं। इसके लिए आपको उस पोस्ट का URL Fetch करना होगा। Fetch हो जाने के बाद आप उसे Index करने के लिए भी Submit कर सकते हैं। जिसके बाद कुछ ही मिनटों में सर्च बॉट उसे बदलाव को इंडेक्स कर लेगा।

अगर आपको Google Search Console से blog SEO करने के टिप्स पसंद आए तो इसे जरूर शेअर करें और अपनी किसी संबंधित ब्लॉग पोस्ट से लिंक करें।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here